Wednesday, November 20, 2019

लौह स्तंभ - प्राचीन भारतीय लोहार के उच्च स्तरीय विज्ञान का जीता जागता प्रमाण

By Satish
Iron Pillar, Delhi

लौह स्तंभ - प्राचीन भारतीय लोहार का हाईटेक साइंस का जीता जागता सबूत


Iron Pillar - "A testament to the skill of ancient Indian blacksmiths" because of its high resistance to corrosion.


लौह स्तंभ कहाँ स्थित है और यह किस लिए प्रसिद्ध है? दिल्ली का लौह स्तंभ कितना पुराना है? Where is iron pillar located and what is it famous for? How old is the iron pillar of Delhi?
दिल्ली में कुतुबमीनार के परिसर में खड़ा लौह स्तंभ (Iron Pillar) आज के विज्ञान के लिए एक बहुत बड़ा आश्चर्य है. यह अपने आप में प्राचीन भारतीय धातुकर्म की पराकाष्ठा है. यह परिसर युनेस्को द्वारा विश्व धरोहर (World Heritage) के रूप में स्वीकृत किया गया है. इस लौह स्तम्भ की सबसे खास बात यह है कि 6 हज़ार किलो वजन का 7.16 मीटर उच्चा लंबा यह लौहे का स्तंभ लगभग 99% से अधिक शुद्ध लोहे से बना हैं और 1600 वर्षो से अधिक से खुले आसमान के नीचे सदियों से सभी मौसमों में अविचल खड़ा हैं. इतने वर्षों में आज तक उसमें जंग नही लगी, यह बात दुनिया के लिए आश्चर्य का विषय हैं. जहां तक इस स्तंभ के इतिहास का प्रश्न है, यह चौथी सदी में बना हैं, किन्तु कुछ विशेषज्ञों का मानना है कि इसके पहले निर्माण किया गया हैं,सम्भवतः 912 ईपू में यानी आज से लगभग 3000 वर्षो पहले निर्माण किया है.

इसे ना केवल प्राचीन भारत का बल्कि समस्त प्राचीन जगत का सबसे ऊंचा स्तंभ होने पर गौरव प्राप्त है प्रतिष्ठित इतिहासकार विंसेंट स्मिथ के शब्दों में:

जब हम इतने अधिक भार वाले दिल्ली-स्तंभ को फोर्जन द्वारा बनाने वाले प्राचीन शिल्पकारों के कौशल से अचंभित हो जाते हैं, तो हमें उन विस्मृत कारीगरों की और भी अधिक प्रशंसा करनी चाहिए जिन्होंने इससे भी अधिक वजन वाले स्मारक, धार-स्तंभ का सफलतापूर्ण निर्माण किया.

लौह स्तंभ ने पुरातत्वविदों और धातुविदों का ध्यान आकर्षित किया है और संक्षारण के उच्च प्रतिरोध के कारण इसे "प्राचीन भारतीय लोहारों द्वारा प्राप्त उच्च स्तरीय कौशल के लिए एक वसीयतनामा" कहा गया है.

[Iron pillar has attracted the attention of archaeologists and metallurgists and has been called "a testament to the high level skill achieved by ancient Indian blacksmiths" because of its high resistance to corrosion].

लौह स्तंभ, दिल्ली

लौहे का इस विशाल

  • स्तंभ की कुल लंबाई - 23 फुट 6 इंच (7.16 मी.)
  • उठे मंच से नीचे का भूमिगत भाग - 3 फुट 1 इंच (94.0 सेंमी.)
  • स्तंभ का दृष्टिगत बेलनाकार भाग - 17 फुट (5.18 मी.)
  • अलंकरणयुक्त स्तंभ-शीर्ष की ऊंचाई- 3 फुट 5 इंच (1.04 मी.)
  • निचले भाग का व्यास (मंच के पास) - 1 फुट 4.7 इंच (424 सेंमी.)
  • ऊपरी भाग (स्तंभ-शीर्ष के नीचे) का व्यास - 11.85 इंच (30.1 सेंमी.)
  • स्तंभ-शीर्ष की ऊपरी समतल वर्गाकार सतह - 1'×1' (30.5 सेंमी. 30.5 सेंमी.)
  • स्तंभ के भूमिगत आधार का व्यास - 2 फुट 0.59 इंच (62.5 सेंमी.)
  • ऊपरी लौह-बेलन का व्यास - 8 इंच (20.3 सेंमी.)
दिल्ली का लौह स्तंभ के शीर्ष

लौह स्तंभ में जंग क्यों नहीं लगता हैं?

Why has the iron pillar in Delhi not rusted?
1961 में इसके रासायनिक परीक्षण से पता लगा कि यह स्तंभ आश्चर्यजनक रूप से शुद्ध इस्पात का बना है तथा आज के इस्पात की तुलना में इसमें कार्बन की मात्रा काफी कम है. भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण के मुख्य रसायन शास्त्री डॉ॰ बी. बी. लाल इस निष्कर्ष पर पहुंचे हैं कि इस स्तंभ का निर्माण गर्म लोहे के 20-30 किलो को टुकड़ों को जोड़ने से हुआ है. माना जाता है कि 120 शिल्पकारों व मजदूरों के दो सप्ताह के परिश्रम के बाद इस स्तम्भ का निर्माण किया. स्पष्ट है कि इन कार्मिकों व मजदूरों के नेता अत्यधिक निपुण एवं कुशल धातुकर्मी रहे होंगे तथा कारीगरों को विशेषज्ञता प्राप्त थी. आज से सोलह सौ वर्ष पूर्व गर्म लोहे के टुकड़ों को जोड़ने की उक्त तकनीक भी आश्चर्य का विषय है, क्योंकि पूरे लौह स्तम्भ में एक भी जोड़ कहीं भी दिखाई नहीं देता. सोलह शताब्दियों से खुले में रहने के बाद भी उसके वैसे के वैसे बने रहने (जंग न लगने) की स्थिति ने विशेषज्ञों को चकित किया है. इसमें फास्फोरस की अधिक मात्रा व सल्फर तथा मैंगनीज कम मात्रा में है. स्लग की अधिक मात्रा अकेले तथा सामूहिक रूप से जंग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ा देते हैं. इसके अतिरिक्त 50 से 600 माइक्रोन मोटी (एक माइक्रोन = 1 मि. मी. का एक हजारवां हिस्सा) आक्साइड की परत भी स्तंभ को जंग से बचाती है.

राबर्ट हैडफील्ड ने धातु का विश्लेषण करके बताया कि आमतौर पर इस्पात को किसी निश्चित आकार में ढालने के लिए 1300 - 1400 डिग्री सेंटीग्रेट तापमान की आवश्यकता होती है. पर जो इस्पात इस स्तंभ में लगा है वो राट आइरन कहलाता है जिसे गलने के लिए 2000 डिग्री सेंटीग्रेट से अधिक तापमान की आवशयक्ता होती है. आश्चर्य है कि उस काल में आज की तरह की उच्च ताप भट्ठियां नही थी तो ये कैसे ढाला गया? स्पष्ट हैं प्राचीन काल में भारतीय लोहार के पास यह तकनीक थी.

1998 में IIT कानपुर के विशेषज्ञ प्रोफेसर डॉ. आर. बालासुब्रमन्यम ने काफी रिसर्च के बाद पता लगाया है कि इस स्तंभ पर लोहे, ऑक्सीज़न और हाईड्रोजन की एक पतली परत है जिसने इसे जंग लगने से बचा रखा है. डॉक्टर आर बालासुब्रमन्यम आगे कहते है कि इसके लोहे में फास्फोरस की मात्रा ज्यादा जो इसे खुरने से बचाने के लिए एक महत्वपूर्ण तत्व है. वर्तमान समय जो लोहा उपयोग किया जाता है उसमें फास्फोरस (Phosphorous) की मात्रा 0.05 प्रतीशत होती है परंतु इस स्तंभ में फास्फोरस की मात्रा 0.10 प्रतीशत है.

दुनिया भर में यह माना जाता है कि फ़ास्फ़रोस (Phosphorous) की खोज सन 1669 में हेन्निंग ब्रांड ने की और फ़ास्फ़रोस के जंग रोधी गुणों का पता तो आधुनिक काल में चला है. लेकिन यह स्तंभ तो 1600 वर्ष से अधिक पुराना है. स्पष्ट हैं हमारे पूर्वजों को फ़ास्फ़रोस के जंगरोधी गुण के बारे में पता था और इस बात से यह भी स्पष्ट होता हैं कि फ़ास्फ़रोस का अविष्कार भारत में लोहार द्वारा 1600 वर्ष से अधिक पहले किया जा चुका था.

भारत में इस्पात उद्योग के महारथी, टाटा आयरन एंड स्टील वर्क्स के एस. के. नानावटी ने सन् 1963 में जमशेदपुर में हुई एक अंतरराष्ट्रीय संगोष्ठी में कहे थे:

प्रत्येक भारतीय अपने गौरवशाली अतीत पर गर्व कर सकता है, परंतु दुर्भाग्यवश, हम अपने उस बहुमूल्य तकनीकी प्रगति का लाभ उठाने में असमर्थ रहे हैं. आज स्वतंत्र भारत के युवा धातुविज्ञानी को अपने उस अतीत से प्रेरणा लेना चाहिए जब हमारे पूर्वजों ने महत्वपूर्ण सफलताएं अर्जित की थी और आशा करनी चाहिए कि निकट भविष्य में ही हम उन धातु कर्मियों के स्तर पर पहुंच सकेंगे जिन्होंने दिल्ली में लौह-स्तंभ का निर्माण करके धातुकी कला एवं विज्ञान की प्रगति में एक कीर्तिमान स्थापित किया था.

तोप का गोला लगने का प्रमाण

लौह स्तंभ का एक भाग थोड़ा सा उखड़ा हुआ है जो साफ़ – साफ़ दर्शाता है कि इसे किसी तोप द्वारा बिलकुल पास से उड़ाने की कोशिश की गई है. हालांकि इसका कोई स्पष्ट प्रमाण नही है कि किसने इस पर तोप चलवाई थी, पर ज्यादातर इतिहासकार मानते है कि सन 1739 में नादिर शाह ने दिल्ली पर अपने हमले के दौरान इस पर तोप चलाने का आदेश दिया था.

स्तंभ पर तोप के गोले लगने का निशान
धातुकर्म उद्योग में पर्यावरण प्रबंधन पर अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन, बीएचयू-वाराणसी (भारत) Dec, 14-16 2000 में भारतीय लोहार पर हुई चर्चा के कुछ अंश:-
Indian Lohars has mastered the forging, forge welding and heat-temperature technology at an early date. They classified the iron and steel purchased from the producers based on ductility and magnetic properties as well as the appearance of the fracture properties one such classification mentioned in Rasa Ratna Samucca (8 to 10 C.A.D.) by Kulkarni (1969). Although much details regarding the tools and techniques of the ancient Blackmith are not known but results of their craftsmanship are world famous. The Iron Pillar at Delhi (weighing more than 6 tones) is a fine example of the forging skill of Indian iron smiths and the quality of almost rustless iron produced in 4th C.A.D. in the country. There are many other iron pillars found in the country and large number of iron beams are found at Konark temple and other places in Odisha. During the latter period gun pipes weighing any thing upto 50 tones were produced in the country by forge welding of iron pieces. Recently Prakash (1989-90) Balasubramaniam (1999) and Rassler (1997) have studied and attempted to explain the possible method of production of the Iron Pillars at Dhar and Delhi and the Thanjavur gun respectively. EMMI - 2000 BHU-Varanasi (India) Dec, 14-16, 2000.

लौह स्तंभ का दूसरा दृष्य
यह पर्यटकों का आकर्षण केंद्र हैं. विश्व भर में इसे प्राचीन भारत के प्रमुख तकनीकी उपलब्धि माना जाता हैं. यह कहना अतिश्योक्ति नहीं होगी कि यह उस प्रौद्योगिकी की एक महानतम सफलता हैं. दिल्ली का लौह-स्तम्भ भारतीय धातुकर्म के गौरव का साक्षी है. सलाम हैं उन सभी भारतीय शिल्पकार लोहार को जिन्होंने अपने उच्च स्तरीय कौशल से निर्मित लौह स्तंभ विश्व को एक अद्वितीय धरोहर दिया.
जय हिंद, जय भारत

References
  1. Proceedings of the International Conference on Environmental Management in Metallurgical Industries (EMMI-2000): 14-16 December, 2000
  2. The Rustless Wonder – A Study of the Iron Pillar at Delhi, T.R. Anantharaman, Vigyan Prakashan, New Delhi, 1996.
  3. New Insights on the 1600-Year Old Corrosion Resistant Delhi Iron Pillar, R. Balasubramaniam, Indian Journal of History of Science, 36 (2001) 1-49.
  4. The Decorative Bell Capital of the Delhi Iron Pillar -R. Balasubramaniam, Journal of Metals, 50, Number 3 (1998) 40-47.
  5. wikipedia & Other

इस आर्टिकल में सभी जानकारी सावधानी पूर्वक दी गयी है, फिर भी यदि कोई गलती हो गयी हो तो, हमे क्षमा करें और हमे उस गलती के बारे मे Contact Form के द्वारा बताए, ताकि हम उसमें सुधार कर सके. नीचे कमेंट में अपनी प्रतिक्रिया दें और अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करें. धन्यवाद !

2 comments: